सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जनविकासी हों निर्णय



जनविकासी हों निर्णय

शक्रवार दिनांक 12 अक्टूबर को केन्द्रीय सूचना आयुक्तों के सम्मेलन में सूचना अधिकार को निजता में हनन न होने देने की शर्त पर इसके परिसीमन करने की बात प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उठायी। सूचना अधिकार से लोगों को यदि यूपीए की कारगुजारियों की हर बुरी सूचना प्रतिदिन मिल रही हो और सरकारी तंत्र इससे भयभीत हो तो ऐसे सम्मेलनों के आयोजन पर ही स्वाभाविक सन्देह हो जाता है। सरकारी स्तर पर हुईं अनेकों वित्तीय गड़बडि़यों के साक्ष्य उपलब्ध होने पर भी सरकार को यदि अविश्वास प्रस्ताव लाकर गिराने का कोई प्रयत्न नहीं हो रहा है, तो इसकी पृष्ठभूमि में सरकार के सहयोगी दलों और विपक्षी दलों की क्षुद्र सत्ता लोलुपता तथा इस बूते अवैध वित्त पोषण की उनकी मानसिकता स्पष्ट प्रतीत होती है। ऐसे में इस युग की भारतीय राजनीति का धर्म लोक सेवा नहीं बल्कि पूंजीतंत्र की साज-संभाल तक सीमित हो गया है। निश्चित रूप से सूचना अधिकार का परिसीमन करने की इच्छा किसी लोक भलाई की चिंता से प्रेरित नहीं है। जनसाधारण के अधिकारों के हनन पर फल-फूलते वित्ततंत्र ने लोकतंत्र का स्थान ले लिया है। सरकारी घोटालों में शीर्षस्थ लोगों की संलिप्तता सार्वजनिक हो रही या होने की आशंका से ही सत्ताधारियों ने अतिशीघ्र अपने अनुसार सूचना अधिकार कानून के संशोधन की हामी भर दी है। यदि सत्तासीनों में अंशमात्र की नैतिकता भी शेष है तो उन्हें इस कानून के प्रयोग से सार्वजनिक हो रहे अवैध पूंजीगत सरकारी व निजी कार्यों पर नियंत्रण रखते हुए दोषियों को दण्ड देने पर विचार करना चाहिए, ना कि उलटवार करते हुए कानून को ही पंगु करने की मानसिकता के अधीन उसे निष्प्रभावी बनाकर छोड़ देना चाहिए। सरकार की यह मंशा यदि पूरी होती है तो इससे सूचना अधिकार के सशक्त प्रावधान प्रभावित होंगे। परिणामस्वरूप घपलों-घोटालों की जो जानकारियों देशभर से इस कानून के उपयोग के अन्तर्गत अभी तक मिल रही हैं, आगे उसमें व्यवधान आ जाएगा। विधि संहिता के आवश्यक उपबंधों को यदि संशोधित किया भी जाता है अथवा इसमें आमूल परिवर्तन होते हैं तो स्वाभाविक है वे सरकार के अनुकूल ही होंगे ना कि जनसाधारण के। ऐसे में जनसाधारण की लोकतांत्रिक अपेक्षा को आघात लगने की पूरी आशंका है। सरकार की कमियों के विरुद्ध सड़कों पर उतर कर आंदोलन, प्रदर्शन, धरने, अनशन कर रहे लोग अभी तक तो अहिंसात्मक तरीके से अपना-अपना विरोध प्रकट कर रहे हैं। अचंभा नहीं होना चाहिए कि सरकार के सूचना अधिकार कानून के संशोधन के विचार से, उनमें अपने विरोध के तरीकों में हिंसात्मक परिवर्तन आ जाए! वैसे भी अब तक ऐसी स्थिति नहीं बनी है, इसलिए राजनेता आराम से हैं। यदि ऐसा विघटन प्रारंभ हो गया तो इसे संभालना कठिन ही नहीं असंभव भी हो जाएगा। देश के किसी भी कानून की गठन की प्रक्रियाओं में सबसे जरूरी ध्यान गरीबों और उपेक्षितों के कल्याण पर होना चाहिए। किसी भी देश, उसकी संसद, कार्यपालिका, विधायिका, न्यायपालिका और अनेक अन्य शीर्ष सत्ताधारी संगठनों का दायित्व, अपने अन्तर्गत क्रियान्वित होनेवाली योजनाओं के केन्द्र में जनकल्याण, विशेषकर रोजी-रोटी के लिए संघर्षरत् लोगों के अच्छे जीवन निर्माण का विचार होना चाहिए। यदि इस दिशा में सज्जनता दिखाई जाती है, तो विकास के रूप में हर नागरिक को उसकी व्यक्तिगत योग्यता का फल अवश्य ही प्राप्त होगा।
हिन्‍दी दैनिक जनसत्‍ता मंगलवार 23 अक्‍टूबर,
 2012 के संपादकीय पेज के समांतर कॉलम  
में  सूचना का डर शीर्षक के साथ  प्रकाशित

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आप भला तो जग भला

अकसर हम समाज और इसके भौतिक-अभौतिक व्‍यवहारों से स्‍वयं को दुखी करते हैं।हम सोचते हैं कि स्थितियां,घटनाएं और आयोजन हमारे अनुकूल हों। ये हमारेअनुसार उपस्थित हों। कोई भी मनुष्‍य सकारात्‍मक अपेक्षा के साथ ऐसा होने कीकल्‍पना करता है। और ऐसी कल्‍पना के मूल में हर वस्‍तु व प्रत्‍येकसामाजिक व्‍यवहार सदभावना के साथ मौजूद रहता है। लेकिन क्‍या हमारेमनोत्‍कर्ष के लिए चीजें,घटनाएं बदल जाएंगी?निसन्‍देह ऐसा नहीं होगा। अपनी अपेक्षा के अनुरूप चीजोंके न होने,घटनाओं के न घटनेका दुखभाव भूलने के लिए कुछ दिनों तक आप अपने परिवेश से दूर चले जाएं। आपका अपने शहर,घर और पास-पड़ोस से एक माह तक कोई सम्‍पर्क न हो। महीनेभर बाद वापस आने पर आप क्‍या पाते हैं, यही कि कुछ नहीं हुआ। आपके मन मुताबिक कुछ नहीं बदला। सब कुछ पहले जैसा ही है। शहर, घर और पास-पड़ोस आपकी अनुपस्थिति में भी अपनी अच्‍छाईयों-बुराईयों के साथ पूर्ववत हैं। जब आपकी अस्‍थायी अनुपस्थिति से अपके परिवेश में बदलाव नहीं आया और वापस ऐसे परिवेश में आकर आपको इसका भान भी हो गया, तोफिरअपनी इच्‍छापूर्ति न होने का दुख हमेंक्‍यों हो? क्‍यों हमको यह महसूस हो कि अमुक ची…

कर्मचारियों के प्रति प्रबंधन-वर्ग का दायित्व

कर्मचारियों के प्रतिप्रबंधन-वर्ग का दायित्व आज दुनियाभर में फैले 80 प्रतिशत व्यापार का संचालन निजी कम्पनियों द्वारा किया जा रहा है। इसके लिए कम्पनियां अपने यहां एक मजबूत प्रबंधन-तंत्र बनाती हैं। इसका मुख्य कार्य कम्पनी की आर्थिक,व्यावसायिक,व्यापारिक,कानूनी कार्यप्रणालियों और गतिविधियों पर बराबर नजर रखना होता है। आए दिन कम्पनियों को अपने और दुनिया के अन्य देशों की सरकारी नीतियों की अहम जानकारियां एकत्र करनी पड़ती हैं। इनमें भी अपने और संबंधित देश के कम्पनी मामलों के मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी की गई रिपोर्टों से अवगत होना बहुत जरुरी होता है,ताकि कम्पनी और कर्मचारियों के उज्ज्वल भविष्य के महत्वपूर्ण निर्णय समय पर लिए जा सकें। बकायदा इसके लिए कम्पनी अधिनियम,1956 के अधीन कम्पनियों को सरकारी नीतियों पर चलने के लिए भी निर्देश दिए जाते हैं।
      किसी देश में सरकारी प्रतिष्ठानों,निजी और अर्द्ध-सरकारी कम्पनियों का संचालन इतना कुशल तो होना ही चाहिए कि अपना फायदा देखने से पहले वे आम आदमी की सामाजिक जरुरत का भी ध्यान रखें। इसी उद्देश्‍य के मद्देनजर उन्हें सरकारी नियमों के अधीन रहकर अपना व्याप…

अन्‍धविश्‍वास छोड़ आत्‍मविश्‍वास अपनाएं

अन्‍धश्रद्धा निर्मूलन समिति के अध्‍यक्ष मराठी समाजसेवी नरेन्‍द्र दाभोलकर की हत्‍या। उन्‍हें निकट से गोली मारी गई। वे धर्माडम्‍बरी, अन्‍धविश्‍वासी लोगों को जीवन को वास्‍तविकता के धरातल पर देखने के लिए प्रेरित करते थे। आज के आम आदमी को किस दिशा में सोचनेवाला कहें। वह अपनी सुरक्षा के लिए धार्मिक कुरीतियों के हवाले है या वो अपनी नजर में मौजूद अपनी उन गलतियों से आत्‍मविनाशी हो-हो कर धर्मतन्‍त्र के तकाजे में अपने व्‍यक्तित्‍व को बदलने की सोचता है, जो वह बचपन से लेकर अब तक करता आ रहा है। ऐसे व्‍यक्तियों को यदि यथार्थपरक दृष्टि से सम्‍पूर्ण नरेन्‍द्र दाभोलकर जैसा व्‍यक्ति जीवन को उस रुप में जीने को प्रेरित करे, जिस रुप में वह है या हो सकता है तो निसन्‍देह धर्म के ठेकेदारों को इससे अपनी दूकानों के बन्‍द होने का डर सताने लगता है। परिणामस्‍वरुप वे दाभोलकर जैसे जमीनी और यथार्थवादियों को या तो मृत्‍यु दे देते हैं या उन्‍हें इस प्रकार प्रताड़ित करते हैं कि वे जीते जी मौत के कब्‍जे में पहुंच जाते हैं। बात केवल समाजसेवी की मौत पर दुख मनाने या अन्‍धविश्‍वास की दूकानें चलानेवालों के दुस्‍साहस के जीत की न…