सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आत्‍म-साक्षात्‍कार

श्रावण की पूर्णिमा बीते अभी कुछ दिन ही हुए। कल दोपहर से जो पवन सरसरा रही थी, चटक धूप में घुल-मिल जाने के बाद भी उसका एहसास शीतल था। शाम और रात को हवा का स्‍पंदन अत्‍यधिक शीतल हो चुका था। पूर्वी और पश्चिमी नभ के बीच दमकता चंद्रमा रात को ठंडी हवा सेे आच्‍छादित पृथ्‍वी से कितना सुंदर दिख रहा था। आकाश का रंग गाढ़ा नीला था। उस पर चांदी के रंग का चांद कितना मधुर लग रहा था। बादलों के बहुत छोटे-छोटे अंश गाढ़े नीले नभ और चांदी के रंग के चांद के साथ‍ कितने कीमती लग रहे थे। अाधी रात बीतने को थी। निवास स्‍थान का परिवेश घर की छत से सुनसान प्रतीत हो रहा था। लोग घरों में कैद हो चुके थे। कुछ लोगों काेे इस रात्रि सुंदरता में परस्‍पर बातें करते हुए, उन्‍हें सड़क पर चलते-फि‍रते हुए देखना अच्‍छा लगा। कई आकांक्षाओं और लिप्‍साओं मेंं डूबा मेरा तुच्‍छ मन न जाने कितनी जल्‍दी अपनेे खयाल बदलता रहा। कभी प्राकृतिक सुंदरता पर मन तरह-तरह के विचार करता तो कभी प्राकृतिक सुंदरता के जनक के बारे में सोचने लग जाता। कभी अपनी गरीबी पर स्थिर होकर अपनी रोजी-रोटी की चिंता से ग्रस्‍त मेरा हृदय मेरे शरीर के साथ निरंतर छत पर इधर-उधर टहलता रहा। अपनी परछाई चांदनी रात में रंग में तो पूरी काली दिखी पर उससे एक मोह सा उत्‍पन्‍न हो गया। सोचता रहा कि जीवों और निर्जीव वस्‍तुओं की परछाई तो कृत्रिम और प्राकृतिक दोनों रोशनियों में दिखती है पर कौन सी परछाई ज्‍यादा सत्‍य प्रतीत होती होगी। रात केे इस एकांत समय में आत्‍म‍साक्षात्‍कार करने का सबसे बढ़िया अवसर मिलता है। जब आत्‍मा से मौन संवाद होता है तो समझ में आता कि जीवन में मेरी हिस्‍सेदारी कितनी स्‍वार्थी है। मैं जीवन को कितने हलके में ले लेती हूँ। मेरे जीवन की जिज्ञासाएं निजी उपलब्धियों पर फूले नहीं समाने तक ही सिमट कर रह गईं। अपने से छूटकर दूसरे जीवन, मनुष्‍यों और प्राणियों के दुख-दर्द हमारे लिए अभिरुचियों को साकार करने की घटनाएं मात्र बन चुके हैं। कहीं कोई मरा, घायल हुआ, भूखा है या दूर पहाड़ों में आजकल किसी के घर पर वज्रपात हुआ तो हमारे वश में पीड़ितों के दर्द से जुड़ने की सदानुभूति भी नहीं होती। ऐसी दुर्घटनाओं पर हम कहानी, कविता, संवाद, चर्चा-विमर्श करके आत्‍मतुष्टि पा लेेते हैं या राजनेता के रूप में नकली हमदर्द बनने का स्‍वांग भर देते हैं, यह सोचकर मानवता के पतन का शिखर करीब दिखने लगता है। अपनी परोपकार भावना खोखली प्रतीत होने लगती है। अपने उद्गार अपनी ही दृष्टि में भ्रम प्रतीत होते हैं। रात्रि की यह स्‍वप्निल समयगति मुझे भौतिक जीवन से दूर ले गई। मैं देर रात तक शीतल पवन और शांत-निर्मल चांदनी में उड़ती-फि‍रती रही। मुझे इस समय को छोड़कर पतित भौतिक जीवन की सुबह से भय लगता है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आप भला तो जग भला

अकसर हम समाज और इसके भौतिक-अभौतिक व्‍यवहारों से स्‍वयं को दुखी करते हैं।हम सोचते हैं कि स्थितियां,घटनाएं और आयोजन हमारे अनुकूल हों। ये हमारेअनुसार उपस्थित हों। कोई भी मनुष्‍य सकारात्‍मक अपेक्षा के साथ ऐसा होने कीकल्‍पना करता है। और ऐसी कल्‍पना के मूल में हर वस्‍तु व प्रत्‍येकसामाजिक व्‍यवहार सदभावना के साथ मौजूद रहता है। लेकिन क्‍या हमारेमनोत्‍कर्ष के लिए चीजें,घटनाएं बदल जाएंगी?निसन्‍देह ऐसा नहीं होगा। अपनी अपेक्षा के अनुरूप चीजोंके न होने,घटनाओं के न घटनेका दुखभाव भूलने के लिए कुछ दिनों तक आप अपने परिवेश से दूर चले जाएं। आपका अपने शहर,घर और पास-पड़ोस से एक माह तक कोई सम्‍पर्क न हो। महीनेभर बाद वापस आने पर आप क्‍या पाते हैं, यही कि कुछ नहीं हुआ। आपके मन मुताबिक कुछ नहीं बदला। सब कुछ पहले जैसा ही है। शहर, घर और पास-पड़ोस आपकी अनुपस्थिति में भी अपनी अच्‍छाईयों-बुराईयों के साथ पूर्ववत हैं। जब आपकी अस्‍थायी अनुपस्थिति से अपके परिवेश में बदलाव नहीं आया और वापस ऐसे परिवेश में आकर आपको इसका भान भी हो गया, तोफिरअपनी इच्‍छापूर्ति न होने का दुख हमेंक्‍यों हो? क्‍यों हमको यह महसूस हो कि अमुक ची…

कर्मचारियों के प्रति प्रबंधन-वर्ग का दायित्व

कर्मचारियों के प्रतिप्रबंधन-वर्ग का दायित्व आज दुनियाभर में फैले 80 प्रतिशत व्यापार का संचालन निजी कम्पनियों द्वारा किया जा रहा है। इसके लिए कम्पनियां अपने यहां एक मजबूत प्रबंधन-तंत्र बनाती हैं। इसका मुख्य कार्य कम्पनी की आर्थिक,व्यावसायिक,व्यापारिक,कानूनी कार्यप्रणालियों और गतिविधियों पर बराबर नजर रखना होता है। आए दिन कम्पनियों को अपने और दुनिया के अन्य देशों की सरकारी नीतियों की अहम जानकारियां एकत्र करनी पड़ती हैं। इनमें भी अपने और संबंधित देश के कम्पनी मामलों के मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी की गई रिपोर्टों से अवगत होना बहुत जरुरी होता है,ताकि कम्पनी और कर्मचारियों के उज्ज्वल भविष्य के महत्वपूर्ण निर्णय समय पर लिए जा सकें। बकायदा इसके लिए कम्पनी अधिनियम,1956 के अधीन कम्पनियों को सरकारी नीतियों पर चलने के लिए भी निर्देश दिए जाते हैं।
      किसी देश में सरकारी प्रतिष्ठानों,निजी और अर्द्ध-सरकारी कम्पनियों का संचालन इतना कुशल तो होना ही चाहिए कि अपना फायदा देखने से पहले वे आम आदमी की सामाजिक जरुरत का भी ध्यान रखें। इसी उद्देश्‍य के मद्देनजर उन्हें सरकारी नियमों के अधीन रहकर अपना व्याप…

खेल में चमकने न चमकने की जिम्‍मेदारी शासकों की होती है

स्‍वामी विवेकानंद ने कभी कहीं किसी संदर्भ में कहा था कि खेल में बहाया गया पसीना,दिखाई गई एकाग्रता और क्रियान्वित किए गए संकल्‍प ही मनुष्‍य को सोच-विचार के सर्वोच्‍च शिखर पर विराजमान करते हैं।शायद प्रसंग आध्‍यात्मिक चर्चा का था। विचार-विमर्श के दौरान किसी विद्वान ने उनसे ऐसा प्रश्‍न किया था,तब उन्‍होंने ऐसा उत्‍तर दिया। अब मुझे भी महसूस हो रहा है कि ऐसी कौन सी वैचारिक शक्ति है,जो विचारशक्ति के साथ शारीरिक शक्ति बढ़ाए। मेरे विचार से किसी भी तरह की क्रीड़ा में किया गया परिश्रम मनुष्‍य को आध्‍यात्मिक दृष्टि के सर्वोच्‍च शिखर पर भी पहुंचा सकता है। विचारक,विद्वान,धर्मगुरु,आध्‍यात्मिक पथ-प्रदर्शक होना इतना महत्‍त्‍वपूर्ण नहीं,जीवन में जितना महत्‍त्‍वपूर्ण खेलों में परिश्रम से खेल को उसके मौलिक और श्रेष्‍ठ परिणाम तक पहुंचाना होता है। और जो व्‍यक्ति ऐसा करता है निश्चित रूप से उसे परिभाषित तो खिलाड़ी के रूप में किया जाता है,लेकिन वह सभी महापुरुषों से श्रेष्‍ठ ही होता है। आजकल पीवी सिंधू और साक्षी मलिक चर्चा मेंहैं। ओलंपिक की कुश्‍ती और बैडमिंटन प्रतियोगिताओं में इन दोनों ने भारत के लिए क्रमश: द्विती…