सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नशामुक्ति की प्रेरणादायी पहल




गांधी जी ने भी कुछ समय तक धूम्रपान किया। लेकिन इसे छोड़ने पर उन्‍हें ये प्रश्‍न कचोटता रहा कि लोग इसका सेवन क्‍यों करते हैं?

नशामुक्ति की प्रेरणादायी पहल

एक के बाद एक अनेक राज्यों ने अपने यहां गुटखा बनाने] बेचने और खाने पर प्रतिबन्ध लगाने का अध्यादेश लागू कर दिया है। इसी क्रम में ग्रेटर नोएडा] उत्तर प्रदेश के कुछ गांवों ने भी गुटखा] तम्बाकू और मदिरा विक्रय] क्रय और सेवन पूर्णतः प्रतिबन्धित कर दिया है। वहां इन्हें बेचनेवालों पर एक हजार] सेवन करनेवालों पर पांच सौ रुपए का दण्ड और इनकी बिक्री व प्रयोग की सूचना देनेवाले को सौ रूपए का ईनाम घोषित किया गया है। इन अच्छी बातों की सामूहिक सामाजिक पहल हमें नई उमंग और ऊर्जा से भर देती है। लगने लगता है कि समाज में सब कुछ बुरा ही नहीं है। कुछ अच्छे काम भी हो रहे हैं। किन्तु यह दुखद है कि इस प्रकार का सकारात्मक और समाज सुधार कार्य अधिक प्रचारित नहीं हो पाता है। जनसंचार माध्यम नकारात्मक घटनाओं-परिघटनाओं पर अधिक केन्द्रित हो गए हैं। उनका ध्यान आंतकी गतिविधियों की तन्तुपरक खोज करके उसके समाचार प्रसारित करने पर लगा रहता है। इसके अलावा इलेक्‍ट्रानिक मीडिया द्वारा अनुपयोगी घटनाओं को विस्तृत रूप से प्रकाशित करना या उनको बारम्बार सुनाने की कार्यप्रणाली भी परोक्ष रूप से अनुचित और असामाजिक परिस्थितियों का निर्माण करती है। क्या जिम्मेदार लोगों] मीडिया संचालनकर्ताओं और कर्ताधर्ताओं को यह प्रतीत नहीं होता कि आंतकी गतिविधियों में शामिल लोगों का महिमामण्डन नहीं होना चाहिए। उन्हें उनके नाम] देश और इतिहास सहित परोसे जाने की आवश्यकता क्यों आन पड़ती हैआंतकवादियों को उनके किए की सजा देने के लिए सारी कसरत जब सुरक्षा बलों को करनी होती है तो आम आदमी को खबरिया चैनलों और अखबारों के माध्यम से इनकी एक-एक हरकत से क्यों परिचित कराया जाता है! देखा जाए तो इन खबरों को इतना विस्तार देने की कोई जरूरत ही नहीं है। लगता है टीआरपी और विज्ञापन के लालच ने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को अभिभूत कर दिया है। ऐसी गतिविधियों में दिल से योगदान करने के लिए तत्पर] दिग्भ्रमित नौजवान मीडिया में परोसी जानेवाली समाज विरोधी कार्यों की बढ़ती रपटों से प्रोत्साहित होते हैं।
       हम सब का यह सामाजिक कर्तव्य है कि सकारात्मक स्थितियों और खबरों का ज्यादा प्रसार हो। अब जब देश में तम्बाकू और शराब के प्रतिबन्ध के लिए लोगों में जागरूकता आई है तो शासन-प्रशासन] प्रेस-पुलिस सभी की जिम्मेदारी है कि इस मुहिम को सामाजिक] राजनीतिक तरीके से आगे बढ़ाया जाए। इस समाजोपयोगी काम में अधिक से अधिक योगदान देकर जीवन की दशा-दिशा को पूर्णतः नशामुक्त करके स्वस्थ बनाने पर जोर दिया जाना चाहिए।
यह अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है कि समाज के कुछ लोगों ने वर्षों से चली आ रही नशे की बीमारी का उन्मूलन करने की ठानी है। इससे भी बड़ी और प्रेरणाप्रद बात यह है कि उन्होंने इस काम के लिए नशे से पीड़ित और इससे विलग लोगों को एकजुट करके यह अभियान चलाया है। चूंकि अधिकांश समाज नशे की चपेट में है इसलिए अभी यह कदम ज्यादा मुखर और प्रशंसनीय नहीं बन सका। लेकिन जो लोग नशा नहीं करते उनके लिए तो सचमुच ही ये बहुत बड़ी और महान उपलब्धि है।

'kfuokj 3 uoacj] 2012 dks nSfud fganqLrku ds
laikndh; ist ds lkbcj lalkj dkWye esa 
izsjd igy 'kh"kZd ds lkFk izdkf'kr

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आप भला तो जग भला

अकसर हम समाज और इसके भौतिक-अभौतिक व्‍यवहारों से स्‍वयं को दुखी करते हैं।हम सोचते हैं कि स्थितियां,घटनाएं और आयोजन हमारे अनुकूल हों। ये हमारेअनुसार उपस्थित हों। कोई भी मनुष्‍य सकारात्‍मक अपेक्षा के साथ ऐसा होने कीकल्‍पना करता है। और ऐसी कल्‍पना के मूल में हर वस्‍तु व प्रत्‍येकसामाजिक व्‍यवहार सदभावना के साथ मौजूद रहता है। लेकिन क्‍या हमारेमनोत्‍कर्ष के लिए चीजें,घटनाएं बदल जाएंगी?निसन्‍देह ऐसा नहीं होगा। अपनी अपेक्षा के अनुरूप चीजोंके न होने,घटनाओं के न घटनेका दुखभाव भूलने के लिए कुछ दिनों तक आप अपने परिवेश से दूर चले जाएं। आपका अपने शहर,घर और पास-पड़ोस से एक माह तक कोई सम्‍पर्क न हो। महीनेभर बाद वापस आने पर आप क्‍या पाते हैं, यही कि कुछ नहीं हुआ। आपके मन मुताबिक कुछ नहीं बदला। सब कुछ पहले जैसा ही है। शहर, घर और पास-पड़ोस आपकी अनुपस्थिति में भी अपनी अच्‍छाईयों-बुराईयों के साथ पूर्ववत हैं। जब आपकी अस्‍थायी अनुपस्थिति से अपके परिवेश में बदलाव नहीं आया और वापस ऐसे परिवेश में आकर आपको इसका भान भी हो गया, तोफिरअपनी इच्‍छापूर्ति न होने का दुख हमेंक्‍यों हो? क्‍यों हमको यह महसूस हो कि अमुक ची…

कर्मचारियों के प्रति प्रबंधन-वर्ग का दायित्व

कर्मचारियों के प्रतिप्रबंधन-वर्ग का दायित्व आज दुनियाभर में फैले 80 प्रतिशत व्यापार का संचालन निजी कम्पनियों द्वारा किया जा रहा है। इसके लिए कम्पनियां अपने यहां एक मजबूत प्रबंधन-तंत्र बनाती हैं। इसका मुख्य कार्य कम्पनी की आर्थिक,व्यावसायिक,व्यापारिक,कानूनी कार्यप्रणालियों और गतिविधियों पर बराबर नजर रखना होता है। आए दिन कम्पनियों को अपने और दुनिया के अन्य देशों की सरकारी नीतियों की अहम जानकारियां एकत्र करनी पड़ती हैं। इनमें भी अपने और संबंधित देश के कम्पनी मामलों के मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी की गई रिपोर्टों से अवगत होना बहुत जरुरी होता है,ताकि कम्पनी और कर्मचारियों के उज्ज्वल भविष्य के महत्वपूर्ण निर्णय समय पर लिए जा सकें। बकायदा इसके लिए कम्पनी अधिनियम,1956 के अधीन कम्पनियों को सरकारी नीतियों पर चलने के लिए भी निर्देश दिए जाते हैं।
      किसी देश में सरकारी प्रतिष्ठानों,निजी और अर्द्ध-सरकारी कम्पनियों का संचालन इतना कुशल तो होना ही चाहिए कि अपना फायदा देखने से पहले वे आम आदमी की सामाजिक जरुरत का भी ध्यान रखें। इसी उद्देश्‍य के मद्देनजर उन्हें सरकारी नियमों के अधीन रहकर अपना व्याप…

अन्‍धविश्‍वास छोड़ आत्‍मविश्‍वास अपनाएं

अन्‍धश्रद्धा निर्मूलन समिति के अध्‍यक्ष मराठी समाजसेवी नरेन्‍द्र दाभोलकर की हत्‍या। उन्‍हें निकट से गोली मारी गई। वे धर्माडम्‍बरी, अन्‍धविश्‍वासी लोगों को जीवन को वास्‍तविकता के धरातल पर देखने के लिए प्रेरित करते थे। आज के आम आदमी को किस दिशा में सोचनेवाला कहें। वह अपनी सुरक्षा के लिए धार्मिक कुरीतियों के हवाले है या वो अपनी नजर में मौजूद अपनी उन गलतियों से आत्‍मविनाशी हो-हो कर धर्मतन्‍त्र के तकाजे में अपने व्‍यक्तित्‍व को बदलने की सोचता है, जो वह बचपन से लेकर अब तक करता आ रहा है। ऐसे व्‍यक्तियों को यदि यथार्थपरक दृष्टि से सम्‍पूर्ण नरेन्‍द्र दाभोलकर जैसा व्‍यक्ति जीवन को उस रुप में जीने को प्रेरित करे, जिस रुप में वह है या हो सकता है तो निसन्‍देह धर्म के ठेकेदारों को इससे अपनी दूकानों के बन्‍द होने का डर सताने लगता है। परिणामस्‍वरुप वे दाभोलकर जैसे जमीनी और यथार्थवादियों को या तो मृत्‍यु दे देते हैं या उन्‍हें इस प्रकार प्रताड़ित करते हैं कि वे जीते जी मौत के कब्‍जे में पहुंच जाते हैं। बात केवल समाजसेवी की मौत पर दुख मनाने या अन्‍धविश्‍वास की दूकानें चलानेवालों के दुस्‍साहस के जीत की न…