सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाज से जुड़ें नौजवान




समाज से जुड़ें नौजवान
समाज की सही दशा-दिशा बच्चों के उचित पालन-पोषण पर निर्भर हैA यह बात सब जानते हैं और सबसे जरूरी है। शासन-प्रशासन को भी इसकी जानकारी है। लेकिन क्या जानकारी भर होने से उद्देशय प्राप्त किया जा सकता है\ प्रश्न ये है कि आज की किशोरवय और नौजवान पीढ़ी इतनी आधुनिक क्यों हो गई कि उसे अपना विवेक इस्तेमाल करने की जरूरत ही महसूस नहीं होती। यहां-वहां हर कहीं चाहे घर हो या विद्यालय, गली या सार्वजनिक स्थल सब जगह बच्चों का अमर्यादित व्यवहार पुरातन सभ्यता को चुनौती दे रहा है। स्थिति इतनी दुरूह हो गई है कि वे सार्वजनिक स्थानों पर प्रौढ़ व्यक्तियों की उपस्थिति में ही असभ्य व असामाजिक हरकतें कर रहे हैं। उन्हें संकोच, शील, डर, बदनामी के शब्द और इनका मतलब जैसे सिखाया ही नहीं गया है। हैरानी तब ज्यादा बढ़ जाती है, जब उनके पास अपनी ऐसी हरकतों को सही बताने के कुतर्कों की भरमार होती है ओर वे इनका भरपूर इस्तेमाल भी करते हैं। आखिर यह नौबत कैसे आ गई, क्या तरक्की का तात्पर्य अलग-अलग उम्र के लिए निर्धारित पुरातन व्यवहार, संस्कृति, मर्यादा को पाटकर समाज को बदतमीजी की घिनौनी दिशा देने से है\ क्या पुरातन सुव्यवस्थित सामाजिक, पारिवारिक ढांचे को आधुनिक समाज के नाम पर व्यक्ति-व्यक्ति की अच्छी-बुरी मंशा के सहारे ढोना उचित है\ क्या हमारे शीर्षस्थ कर्ताधर्ताओं को इसकी सुधि नहीं है\ वे इस उच्छृंखल किशोरवय मानसिकता को नैतिक और मौलिक साहित्य की सहायता से बदलने का प्रयास क्यों नहीं करते\ क्या उन्हें बच्चों की समझदारी में अपनी मनमानी के पिट जाने का खतरा नजर आता है\ निसंदेह खतरे के पिट जाने का ही आभास है। इसीलिए वे उनके लिए जानबूझकर ऐसा रास्ता बनाने को दुष्प्रेरित हैं, करियर व तरक्की के नाम पर जो उनके कदमों को अंतत दलदल में ही पहुंचा रहा है। आज शहरों के खुले माहौल में शिक्षा इतनी औपचारिक हो गई है कि उसे सिर्फ धन अर्जन तक पहुंचने का आधार मान लिया गया है। शैक्षिक पाठ्यक्रमों से भूगोल, खगोल, ज्ञान-विज्ञान, साहित्य-कला, संस्कृति, मानविकी, सामाजिक, पर्यावरणीय और देशभक्ति जैसे विषय हटा दिए गए हैं। इनके स्थान पर आईटी, एमबीए जैसे पूंजी पोषण के विषयों की भरमार है। तरक्की और विकास के नाम पर जिस मनुष्य का भला होना चाहिए था, वह तो समय गुजरने के साथ एकात्म और परेशान ही ज्यादा नजर आता है। सवाल ये है कि फिर ऐसी तरक्की किस काम की और इस तरह का विकास किसके लिए\ मानव विकास की अवधारणा में जिसकी सबसे ज्यादा जरूरत है, वह है मनुष्य की मनुष्य के प्रति सद्भावना। इसकी प्राप्ति में आज जो सबसे बड़ा रोड़ा है, वह बच्चों में बड़ों बुजुर्गों, गुरूओं और अभिभावकों के प्रति बढ़ता असम्मान ही है। जब तक पीढ़ी-अंतराल सम्माननीय नहीं रहेगा तब तक किसी भी किस्म की सामाजिक संचेतना और जागरूकता की उम्मीद करना बेमानी ही होगा। हालीवुड-बालीवुड की असंख्य फिल्मों में जो कुछ दिखाया जा रहा है, उसका असर ही आज की पीढ़ी पर सबसे ज्यादा है। इसलिए बड़े अभिनेताओं और कलाकारों का यह अहम कर्तव्य है कि वे फिल्मों में अपनी भूमिका का चयन समाज और बच्चों को ध्यान में रखकर करें। हालांकि इसमें सिर्फ कलाकारों और फिल्म निर्देशकों का ही दोष नहीं है। केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड की भी कुछ जिम्मेदारी है। उसे फिल्मों को सार्वजनिक रूप से प्रसारित करने के प्रमाणपत्र बनाते समय देश की बिगड़ती सामाजिक स्थिति का खयाल तो रखना ही होगा। हमें पथभ्रष्ट होती नौजवानी पीढ़ी को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने की दिशा में फौरन से पेशतर कुछ जरूरी काम करने होंगे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आप भला तो जग भला

अकसर हम समाज और इसके भौतिक-अभौतिक व्‍यवहारों से स्‍वयं को दुखी करते हैं।हम सोचते हैं कि स्थितियां,घटनाएं और आयोजन हमारे अनुकूल हों। ये हमारेअनुसार उपस्थित हों। कोई भी मनुष्‍य सकारात्‍मक अपेक्षा के साथ ऐसा होने कीकल्‍पना करता है। और ऐसी कल्‍पना के मूल में हर वस्‍तु व प्रत्‍येकसामाजिक व्‍यवहार सदभावना के साथ मौजूद रहता है। लेकिन क्‍या हमारेमनोत्‍कर्ष के लिए चीजें,घटनाएं बदल जाएंगी?निसन्‍देह ऐसा नहीं होगा। अपनी अपेक्षा के अनुरूप चीजोंके न होने,घटनाओं के न घटनेका दुखभाव भूलने के लिए कुछ दिनों तक आप अपने परिवेश से दूर चले जाएं। आपका अपने शहर,घर और पास-पड़ोस से एक माह तक कोई सम्‍पर्क न हो। महीनेभर बाद वापस आने पर आप क्‍या पाते हैं, यही कि कुछ नहीं हुआ। आपके मन मुताबिक कुछ नहीं बदला। सब कुछ पहले जैसा ही है। शहर, घर और पास-पड़ोस आपकी अनुपस्थिति में भी अपनी अच्‍छाईयों-बुराईयों के साथ पूर्ववत हैं। जब आपकी अस्‍थायी अनुपस्थिति से अपके परिवेश में बदलाव नहीं आया और वापस ऐसे परिवेश में आकर आपको इसका भान भी हो गया, तोफिरअपनी इच्‍छापूर्ति न होने का दुख हमेंक्‍यों हो? क्‍यों हमको यह महसूस हो कि अमुक ची…

कर्मचारियों के प्रति प्रबंधन-वर्ग का दायित्व

कर्मचारियों के प्रतिप्रबंधन-वर्ग का दायित्व आज दुनियाभर में फैले 80 प्रतिशत व्यापार का संचालन निजी कम्पनियों द्वारा किया जा रहा है। इसके लिए कम्पनियां अपने यहां एक मजबूत प्रबंधन-तंत्र बनाती हैं। इसका मुख्य कार्य कम्पनी की आर्थिक,व्यावसायिक,व्यापारिक,कानूनी कार्यप्रणालियों और गतिविधियों पर बराबर नजर रखना होता है। आए दिन कम्पनियों को अपने और दुनिया के अन्य देशों की सरकारी नीतियों की अहम जानकारियां एकत्र करनी पड़ती हैं। इनमें भी अपने और संबंधित देश के कम्पनी मामलों के मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी की गई रिपोर्टों से अवगत होना बहुत जरुरी होता है,ताकि कम्पनी और कर्मचारियों के उज्ज्वल भविष्य के महत्वपूर्ण निर्णय समय पर लिए जा सकें। बकायदा इसके लिए कम्पनी अधिनियम,1956 के अधीन कम्पनियों को सरकारी नीतियों पर चलने के लिए भी निर्देश दिए जाते हैं।
      किसी देश में सरकारी प्रतिष्ठानों,निजी और अर्द्ध-सरकारी कम्पनियों का संचालन इतना कुशल तो होना ही चाहिए कि अपना फायदा देखने से पहले वे आम आदमी की सामाजिक जरुरत का भी ध्यान रखें। इसी उद्देश्‍य के मद्देनजर उन्हें सरकारी नियमों के अधीन रहकर अपना व्याप…

अन्‍धविश्‍वास छोड़ आत्‍मविश्‍वास अपनाएं

अन्‍धश्रद्धा निर्मूलन समिति के अध्‍यक्ष मराठी समाजसेवी नरेन्‍द्र दाभोलकर की हत्‍या। उन्‍हें निकट से गोली मारी गई। वे धर्माडम्‍बरी, अन्‍धविश्‍वासी लोगों को जीवन को वास्‍तविकता के धरातल पर देखने के लिए प्रेरित करते थे। आज के आम आदमी को किस दिशा में सोचनेवाला कहें। वह अपनी सुरक्षा के लिए धार्मिक कुरीतियों के हवाले है या वो अपनी नजर में मौजूद अपनी उन गलतियों से आत्‍मविनाशी हो-हो कर धर्मतन्‍त्र के तकाजे में अपने व्‍यक्तित्‍व को बदलने की सोचता है, जो वह बचपन से लेकर अब तक करता आ रहा है। ऐसे व्‍यक्तियों को यदि यथार्थपरक दृष्टि से सम्‍पूर्ण नरेन्‍द्र दाभोलकर जैसा व्‍यक्ति जीवन को उस रुप में जीने को प्रेरित करे, जिस रुप में वह है या हो सकता है तो निसन्‍देह धर्म के ठेकेदारों को इससे अपनी दूकानों के बन्‍द होने का डर सताने लगता है। परिणामस्‍वरुप वे दाभोलकर जैसे जमीनी और यथार्थवादियों को या तो मृत्‍यु दे देते हैं या उन्‍हें इस प्रकार प्रताड़ित करते हैं कि वे जीते जी मौत के कब्‍जे में पहुंच जाते हैं। बात केवल समाजसेवी की मौत पर दुख मनाने या अन्‍धविश्‍वास की दूकानें चलानेवालों के दुस्‍साहस के जीत की न…